Apple refuses to allow major gaming apps from Microsoft, Google, and Facebook onto the App Store, and the fight just went public | एपल अपने ऐप स्टोर पर गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और फेसबुक के गेमिंग ऐप्स को नहीं दे रही स्पेस; कंपनी ने गाइडलाइन फॉलो नहीं करने का कारण बताया

[ad_1]

  • Hindi News
  • Tech auto
  • Apple Refuses To Allow Major Gaming Apps From Microsoft, Google, And Facebook Onto The App Store, And The Fight Just Went Public

कैलिफोर्नियाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

माइक्रोसॉफ्ट, गूगल और फेसबुक की गेमिंग सर्विस से एपल आर्केड को नुकसान पहुंच सकता है

  • एपल आर्केड सर्विस के लिए हर महीने five डॉलर और सालाना 50 डॉलर लेती है
  • एपल ने 2019 में ऐप स्टोर से ग्लोबली 519 बिलियन अमेरिकी डॉलर का करोबार किया था

दुनिया की सबसे दिग्गज टेक कंपनियों में इन दिनों गेमिंग ऐप्स को लेकर कोल्ड वॉर शुरू हो चुका है। दरअसल, एपल ने आईफोन और आईपैड के प्ले स्टोर पर माइक्रोसॉफ्ट, गूगल और फेसबुक के पॉपुलर गेमिंग ऐप्स को जगह देने से इनकार कर दिया है। यानी इन सभी कंपनियों के गेमिंग ऐप्स, ऐप स्टोर के बिना यूजर्स तक नहीं पहुंच पाएंगे।

माइक्रोसॉफ्ट का गेम पास, गूगल का स्टेडिया और फेसबुक के गेमिंग ऐप, सभी को एपल ऐप स्टोर पर पब्लिशिंग की बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है। ये सभी इन कंपनियों के प्रमुख गेमिंग ऐप्स हैं।

गाइडलाइन फॉलो नहीं कर रही कंपनियां: एपल
ऐपल द्वारा इन गेम को ऐप स्टोर पर स्पेस नहीं देने का कारण ये माना जा रहा है कि कंपनियां अपने हर व्यक्तिगत गेम का एपल से रिव्यू नहीं करना चाहतीं और वे कंपनी के दिशानिर्देशों का उल्लंघन करती हैं।

इस मामले को लेकर एपल के प्रवक्ता ने बताया कि एपल ऐप स्टोर को ग्राहकों के लिए सुरक्षित और भरोसेमंद बनाया गया है, जहां से ले ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं। जब भी किसी ऐप को स्टोर पर डाला जाता है तो सबसे पहले उसका तय गाइडलाइन के हिसाब से रिव्यू किया जाता है। ताकि यूजर्स का डेटा सुरक्षित रहे।”

उन्होंने बताया कि सभी कंपनियां हर गेम को रिव्यू के लिए सबमिट नहीं कर रही है, ऐसे में एपल उन गमिंग ऐप्स को ब्लॉक कर रही है और यूजर्स उस तक नहीं पहुंच पा रहे हैं।

एपल ने एक बयान में कहा कि हमारे यूजर्स लाखों डेवलपर्स से ऐप और गेम का मजा लेते हैं। सभी डेवलपर्स अपनी गेमिंग सर्विस को ऐप स्टोर पर लॉन्च कर सकते हैं, लेकिन उसके लिए उन्हें इससे जुड़ी गाइडलाइन फॉलो करनी होगी। इसके लिए पर्सनली गेम को रिव्यू के लिए सबमिट करना और चार्ट में दिखाई देना शामिल है।

माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक ने जताई नारजगी
माइक्रोसॉफ्ट के प्रवक्ता ने कहा कि एपल लगातार गेमिंग ऐप्स से अलग तरह का व्यवहार करती है, नॉन-गेमिंग ऐप्स के लिए कंपनी के लिए लिबरल रूल्स हैं। कंपनी अभी भी आईओएस प्लेटफॉर्म के एक्सबॉक्स गेम पास अल्टिमेट के साथ क्लाउड गेमिंग लाने के लिए एक रास्ता खोजने के लिए प्रतिबद्ध है।

इधर, फेसबुक ने अपने स्पेशल गेमिंग ऐप गेमिंग ऐप को एपल के एप स्टोर पर बिना मिनी गेम सेक्शन के रिलीज कर दिया। इसी मिनी गेम सेक्शन की वजह से एपल ने फेसबुक के इस ऐप को कई बार एप स्टोर से रिजेक्ट किया था। फेसबुक गेमिंग ऐप एक लाइवस्ट्रीम गेमिंग ऐप है।

फेसबुक के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर शेरिल सैंडबर्ग ने कहा, “दुर्भाग्य से हमें स्टैंडअलोन फेसबुक गेमिंग ऐप पर एपल की स्वीकृति प्राप्त करने के लिए गेमप्ले को पूरी तरह से हटाना पड़ा। इसका मतलब है कि आईओएस यूजर्स को एंड्रॉयड का उपयोग करने वालों के मुकाबले कम एक्सपेरियंस मिलेगा। हम उन 380 मिलियन से अधिक लोगों के लिए फोकस कर रहे हैं जो हर महीने फेसबुक पर गेम खेलते हैं, भले ही ऐप स्पेशल गेमिंग ऐप के लिए मंजूरी दे या नहीं।”

गेमिंग ऐप्स को स्पेस नहीं देने की वजह हो सकती है एपल आर्केड सर्विस

एपल ने बीते साल सितंबर 2019 में अपनी वीडियो गेमिंस सर्विस एपल आर्केड शुरू की थी। ये सब्सक्रिप्शन बेस्ड सर्विस है, जो आईओएस, आईपैड ओएस, टीवी ओएस और मैक ओएस वाले सभी डिवासेज पर काम करती है। कंपनी इसके लिए हर महीने 5 डॉलर (करीब 370 रुपए) और ईयरली 50 डॉलर (करीब 2800) लेती है। एपल ने 2020 में 12 मिलियन (1.2 करोड़) यूजर्स तक इस सर्विस को पहुंचाने का लक्ष्य तय की था।

माइक्रोसॉफ्ट, गूगल और फेसबुक की गेमिंग सर्विस से एपल आर्केड को नुकसान पहुंच सकता है। शायद इस वजह से एपल अपने ऐप स्टोर से इन कंपनियों के गेमिंग ऐप्स स्पेस नहीं दे रही हो।

एपल स्टोर पर गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक के कौन से ऐप्स मौजूद

गूगल ऐप्स की लिस्ट: एपल स्टोर पर गूगल के ऐप्स आईपैड एंड आईफोन, आईफोन, एपल वॉच और एपल टीवी की चार कैटेगरी में हैं। इसमें आईपैड एंड आईफोन कैटेगरी में 63 ऐप्स हैं, जिसमें सिर्फ एक MechaHamster गेमिंग ऐप है। आईफोन कैटेगरी में 17 ऐप्स, एपल वॉच में एक ऐप और एपल टीवी में 2 ऐप्स शामिल हैं। इस तरह से गूगल के कुल 83 ऐप्स एपल स्टोर पर हैं।

माइक्रोसॉफ्ट ऐप्स की लिस्ट: एपल स्टोर पर माइक्रोसॉफ्ट के ऐप्स आईपैड एंड आईफोन, आईफोन, आईपैड, एपल वॉच और मैक की 5 कैटेगरी में हैं। आईपैड एंड आईफोन में माइक्रोसॉफ्ट के कुल 65 ऐप्स हैं, जिसमें 6 गेमिंग ऐप्स हैं। आईफोन कैटेगरी में 19 ऐप्स, आईपैड कैटेगरी में 5 ऐप्स, एपल वॉच कैटेगरी में 6 ऐप्स और मैक कैटेगरी में 9 ऐप्स शामिल हैं। इस तरह से माइक्रोसॉफ्ट के कुल 104 ऐप्स एपल स्टोर पर हैं।

फेसबुक ऐप्स की लिस्ट: एपल स्टोर पर फेसबुक के ऐप्स आईपैड एंड आईफोन, आईफोन, एपल वॉच, एपल टीवी और मैक की 5 कैटेगरी में हैं। आईपैड एंड आईफोन में फेसबुक के 12 ऐप्स, आईफोन कैटेगरी में 2 ऐप्स, एपल वॉच कैटेगरी में 1 ऐप, एपल टीवी कैटेगरी में 1 एप और मैक कैटेगरी में भी 1 ऐप शामिल हैं। इस तरह से फेसबुक के कुल 17 ऐप्स एपल स्टोर पर हैं।

एपल प्ले स्टोर का कारोबार

एपल ने बीते साल यानी 2019 में ऐप स्टोर से ग्लोबली 519 बिलियन अमेरिकी डॉलर (करीब 39 लाख करोड़ रुपए) का करोबार किया था। इसमें सबसे ज्यादा मोबाइल कॉमर्स ऐप्स, डिजिटल गुड्स एंड सर्विस ऐप्स का योगदान रहा। एपल का यह डिजिटल कारोबार दुनियाभर के कुल 175 देशों में फैला है।

मोबाइल गेमिंग ऐप पर एडवर्टाइजिंग के जरिए 45 बिलियन डॉलर का कारोबार हुआ। वहीं, राइड हैंडलिंग सॉफ्टवेयर जैसे कि फूड डिलीवरी ऐप्स से लेकर रिटेल शॉप्स के ऐप्स से 413 बिलियन डॉलर का कारोबार हुआ। कंपनी ने बताया कि उसके कुल कारोबार में से 61 बिलियन डॉलर में डिजिटल आइटम्स का प्रोडक्शन होता है।

0

[ad_2]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *