यदि बारिश का पानी कार में भर जाता है, तो आपने गलती से अपनी जेब पर गलती की होगी; जानिए ऐसी हालत में क्या करें? | कार में भरा होना बारिश का पानी, तो अनजाने में की गई आपकी एक गलती गिरने का जेब पर भारी असर पड़ सकता है; जानिए क्या है?

[ad_1]

  • हिंदी समाचार
  • टेक ऑटो
  • अगर बारिश का पानी कार में भर जाता है, तो आप गलती से अपनी जेब पर गलती कर सकते हैं; जानिए ऐसी स्थिति में क्या करें?

नई दिल्ली2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

गाड़ी को टोइंग व्हीकल की मदद से अथॉराइज्ड सर्विस सेंटर ले जाओ, लेकिन एक ही सर्विस सेंटर पर जाओ डिसीजन न लें, कम से कम दो सर्विस सेंटर पर जाकर ओपीनियन लें या किसी आश्रम के मैकेनिक से भी सलाह लें।

  • डूब चुकी कार का इग्निशन ऑन करने पर इंजन में कचड़ा भर जाता है, जिससे क्लेम रिजेक्ट हो सकता है
  • एक्सपर्ट ने बताया कि जीरो डेप्थ इंश्योरेंस के साथ वॉटर डैमेज या इंजन प्रोटेक्शन और कंज्यूमेबल प्रोटेक्शन जरूर लैंग

भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। डैम फुल हो गए हैं तो नदी नाले उफान पर है। पानी की निकासी की सही व्यवस्था न होने के कारण कई इलाकों में पानी भर गया है, जिससे लोगों के वाहन डूब गए हैं। अगर आप भी उसी परिस्थिति से गुजर रहे हैं या आपकी गाड़ी में भी पानी भर गया है, तो आप सबसे पहले क्या करना और क्या नहीं करना है, यह जानने के लिए हमने औटो एक्सपर्ट और कुछ इंश्योरेंस एजेंट्स से बात की …।

अगर गाड़ी का इंजन प्रोटेक्शन इंश्योरेंस है तो …।

  • इंश्योरेंस एजेंट ने बताया कि अगर आपकी गाड़ी का इंजन प्रोटेक्शन इंश्योरेंस हैं और गाड़ी डूब गई है, तो टैंशन लेने की कोई जरूरत नहीं है। बस गाड़ी में चाबी न खोजें न ही उसे बंद करने की कोशिश करें।
  • अगर आपने गलती से भी गाड़ी चलाने की कोशिश की तो आपकी सामने एक दूसरी मुसीबत खड़ी हो जाएगी। क्योंकि अगर आपने इग्निशन चालू किया तो कचड़ा इंजन के अंदर जा सकता है और इस स्थिति में आपको क्लेम नहीं मिलेगा। ऐसी स्थिति में जब सर्वेयर इंजन का प्रदूषणयना करेगा और इंजन में उसे किसी प्रकार का कचड़ा दिखा या ये पता लगाया गया कि गाड़ी का इग्निशन चालू किया गया था, तो वह क्लेम रिजेक्ट कर देगा। क्योंकि इग्निशन ऑन करने पर ही इंजन के अंदर कचड़ा जाता है। इसलिए बेहतर होगा कि किसी गाड़ी को रिकवरी व्हीकल या टोइंग व्हीकल से सीधे सर्विस सेंटर लें जाएं या सर्विस सेंटर वालों से संपर्क कर उन्हें ले जाने के लिए कहें।

अगर इंश्योरेंस न हो तो …

  • एक्सपर्ट ने बताया कि अगर बात करें गाड़ी पूरी तरह से डूब गई है, तो आपकी गाड़ी का फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस नहीं था सिर्फ थर्ड पार्टी इंश्योरेंस थी। तो इसकीन में भी गाड़ी को बदलने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, वर्ना ये कोशिश आपकी जेब पर भारी पड़ सकती है। क्योंकि डूब जाने के बाद सबसे ज्यादा असर गाड़ी के इंजन और इलेक्ट्रिकल्स पर पड़ता है। ऐसे में कार बंद करने की कोशिश काम और खराब कर सकती है।
  • मुमकिन हो तो सबसे पहले गाड़ी की बैटरी अलग कर दें। क्योंकि बंद गाड़ी में इंजन को नुकसान पहुंचने की गुंजाइश कम हो जाती है। बैटरी हटाने से इलेक्ट्रिकल्स सिस्टम काम नहीं करेंगे और शॉर्ट सर्किट होने की चांस भी कम हो जाएगी।
  • चूंकि गाड़ी का इंश्योरेंस नहीं है तो सारा खर्चा आपको ही उठाना है, ऐसे में गाड़ी को टोइंग व्हीकल की मदद से अंतहीन प्राधिकरणाइज्ड सर्विस सेंटर ले जाएं, लेकिन एक ही सर्विस सेंटर पर जाकर डिसीजन न लें, कम से कम दो सेंटर सेंटर पर जाएं ओपिनियन लें या किसी आशसमंद मैकेनिक से भी दिखवाएं और फिर कोई डिजीसन लें। उदाहरण के तौर पर कोई बीमार नहीं पड़ता है, तो डॉक्टर को दिखाता है और अनाट लगने पर दूसरे डॉक्टर से भी सलाह लेता है। यही बात गाड़ियों के मामले में भी लागू होती है। हो सकता है कि एक एजेंसी बहुत ज्यादा डैमेज होने की बात कहकर आप को 70 हजार का खर्च बता दे, जबकि दूसरा 40-50 हजार में काम कर दे। इस स्थिति में आपका वाहन टो प्रदान करने का खर्चा व्यर्थ नहीं होगा।
  • एक्सपर्ट ने बताया कि इंजन में एक प्रकार की सीलिंग होती है, जिससे पानी इंजन के अंदर नहीं जाता या चला भी जाता है तो बेहद कम, सर्विसिंग के दौरान इसे बाहर निकाला जा सकता है और ज्यादा नुकसान नहीं होगा। लेकिन इग्निशन ऑन करने पर एयर फिल्टर या सायलेंसर के जरिए इंजन में पानी चला जाता है, जिससे पिस्टन में गैप आ सकता है, यानी नुकसान बड़ा हो सकता है।

नोट- एक्सपर्ट ने सलाह दी कि अगर आप ऐसे इलाके में बने रहे हैं, जहां हर बारिश में बाढ़ की स्थिति बना जाती है, तो जीरो डेप्थ इंश्योरेंस के साथ वॉटर डैमेज या इंजन प्रोटेक्शन और कंज्यूमेबल प्रोटेक्शन के लोरे और टेंशन फ्री रहें।
नोट- सभी पॉइंट्स ऑटो एक्सपर्ट्स नीरज उपाध्याय और इंश्योरेंस एजेंट सुंदर चंद्र से बातचीत के आधार पर

ये भी पढ़ सकते हैं

1. आपकी कारों की कार एक्सीलटल नहीं है! ऐसी पहचान; पुरानी कार खरीदने के लिए इन 7 चीजों का ध्यान रखें, पछताना नहीं पडेगा

2. कार का कलर फीका गिरने जाने का है टेंशन! तो लगवा सकते हैं पेंट प्रोटेक्शन फिल्म (पीपीएफ); कल को सालों साल सुरक्षित रखते हुए, स्क्रैच पड़ने पर खुद भी ठीक हो जाएगा

3. फैमिली के साथ कर रहे हैं यात्रा और गाड़ी हो जाएगी पंचर, तो अब नो टेंशन! इस छोटे से गैजेट से दूर परेशानी होगी, मिनटों में टायर ऐसा करने से पहले जैसा होगा

0

[ad_2]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *