दूसरी तिमाही में वैश्विक स्तर पर 11.2 फीसदी बढ़ी कम्प्यूटर की बिक्री, दुनियाभर में बिके लगभग 7.23 करोड़ पीसी

[ad_1]

  • आईडीसी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि एचपी 25 प्रतिशत शेयर के साथ चार्ट में टॉप पर बना हुआ है
  • एपल ने दूसरी तिमाही में बेचे 55 लाख पीसी, 7 प्रतिशत से अधिक की बाजार हिस्सेदारी हासिल की

दैनिक भास्कर

Jul 12, 2020, 02:15 PM IST

लंदन. पिछले कुछ महीनों में वैश्विक स्तर पर पीसी की मांग में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। आईडीसी की नई रिपोर्ट के अनुसार, 2020 की दूसरी तिमाही में वैश्विक स्तर पर पीसी शिपमेंट में 11.2 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। विश्लेषकों का मानना ​​है कि महामारी के कारण लोग वर्क फ्रोम होम को प्राथमिकता दे रहे हैं, इसी ट्रेंड के कारण लैपटॉप और पीसी की मांग बढ़ोतरी देखी गई।

सबसे ज्यादा मांग यूरोप, अफ्रीका और अमेरिका में
IDC का कहना है कि इस अवधि के दौरान 72.Three मिलियन (यानी 7.23 करोड़) यूनिट्स बेचे गए थे, जिसमें लैपटॉप, वर्कस्टेशन और डेस्कटॉप शामिल थे। दिलचस्प बात यह है कि यूरोप, मिडिल-ईस्ट और अफ्रीका (ईएमईए) और संयुक्त राज्य अमेरिका में बिक्री में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी दर्ज की गई। यह संभव है कि भारत के लिए बिक्री के आंकड़ों में इस वर्ष बाद की तीसरी तिमाही में बेहतर संख्या दिखाई दे।

25% बाजार हिस्सेदारी के साथ एचपी सबसे आगे
सेगमेंट में लीडिंग ब्रांडों कौन सा है इस बारे में आईडीसी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि एचपी 25 प्रतिशत शेयर के साथ चार्ट में टॉप पर बना हुआ है। लेनोवो 24.1 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ बहुत पीछे नहीं है। और डेल 16.1 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ टॉप Three में आखिरी स्थान पर है।
इस अवधि के दौरान एपल लगभग 55 लाख इकाइयों को बेचने में सफल रहा, जिससे उसे 7 प्रतिशत से अधिक की बाजार हिस्सेदारी मिली। एसर ने अपने 6.7 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ टॉप Five में शामिल हुआ।

टॉप-Five कंपनियों का शिपमेंट और मार्केट शेयर

कंपनी Q2 शिपमेंट Q2 मार्केट शेयर ग्रोथ (पिछले साल की तुलना में)
1 एचपी 1.80 करोड़     25% 17.7%
2 लेनेवो 1.74 करोड़     24.1% 7.4%
3 डेल 1.20 करोड़ 16.6% 3.5%
4 एपल 55 लाख 7.7% 36.0%
5 एसर 48 लाख 6.7% 12.7%
6 अन्य 1.43 करोड़ 19.8% 6.8%
कुल 7.23 करोड़     100% 11.2%

जुलाई के बाद घट सकती है मांग- आईडीसी
IDC का कहना है कि इन पांच विक्रेताओं ने ओवरऑल पीसी की बिक्री में 80 प्रतिशत का योगदान दिया। लेकिन आने वाले वर्षों में बाजार में बदलाव की उम्मीद की जा सकती है। क्योंकि शाओमी, ऑनर समेत कुछ अन्य ब्रांड्स भी है जो मार्केट में एंट्री कर लाइनअप को रीफ्रेश कर सकते हैं। हालांकि, आईडीसी का कहना है कि जुलाई के बाद पीसी की मांग फिर से घटने की संभावना है। विश्लेषकों का कहना है कि दुनिया भर में स्कूलों और कॉलेजों को बंद करने के कारण मांग में कमी आएगी।

40 हजार से कम कीमत के पीसी में भारतीयों की ज्यादा दिलचस्पी
मोबाइल की तुलना में, भारत पीसी की मांग अन्य देशों से काफी पीछे है। खरीदार सबसे ज्यादा 40,000 रुपए से कम के सेगमेंट पर फोकस करते हैं, लेकिन हम नए ब्रांडों और टेक्नोलॉजी के सस्ती होने के साथ रुझानों में बदलाव की उम्मीद कर रहे हैं। शाओमी ने हाल ही में देश में एमआई नोटबुक लॉन्च किया है जो लेटेस्ट इंटेल 10th जनरेशन के चिपसेट से लैस है। अन्य ब्रांडों भी इसी ट्रेंड को फॉलो कर रहे है, जिससे खरीदारों को चुनने के लिए अधिक विकल्प मिलेंगे।

.

[ad_2]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *