कहवातो की कहनिया

टेढ़ी खीर | कहवातो की कहनिया | Short moral stories for kids in hindi |

टेढ़ी खीर | कहवातो की कहनिया | short moral stories for kids in Hindi |     Short moral stories for kids in hindi:- एक नवयुवक था। छोटे से क़स्बे का। अच्छे खाते-पीते घर का लेकिन सीधा-सादा और सरल सा। बहुत ही मिलनसार। एक दिन उसकी मुलाक़ात अपनी ही उम्र के एक नवयुवक से हुई। …

टेढ़ी खीर | कहवातो की कहनिया | Short moral stories for kids in hindi | Read More »

कंजूस- मखीचूस | कहवातो की कहनिया | Moral stories for kids with pictures |

कंजूस- मखीचूस | कहवातो की कहनिया | Moral stories for kids with pictures |     Moral stories for kids with pictures:- कहावतों की दूनिया बडी रोचक होती है। एक वाक्य या वाक्यांश में पूरी की पूरी बात कह देना। मगर कभी सोचा है कि इन कहावतों के पीछे और क्या और कैसी कहानियां बनी- …

कंजूस- मखीचूस | कहवातो की कहनिया | Moral stories for kids with pictures | Read More »

न तीन में न तेरह में | कहवातो की कहनिया | Moral storys in hindi |

न तीन में न तेरह में | कहवातो की कहनिया | Moral storys in hindi |     Moral storys in hindi:- एक नगर सेठ थे। अपनी पदवी के अनुरुप वे अथाह दौलत के स्वामी थे। घर, बंगला, नौकर-चाकर थे। एक चतुर मुनीम भी थे जो सारा कारोबार संभाले रहते थे। किसी समारोह में नगर …

न तीन में न तेरह में | कहवातो की कहनिया | Moral storys in hindi | Read More »

नमक हराम | कहवातो की कहनिया | Small bedtime stories |

नमक हराम | कहवातो की कहनिया | Small bedtime stories |     Small bedtime stories:- काशी नरेश ब्रह्मदत्त का पुत्र बचपन से ही दुष्ट स्वभाव का था। वह बिना कारण ही मुसाफिरों को सिपाहियों से पकड़वा कर सताता और राज्य के विद्वानों, पंडितों तथा बुजुर्गों को अपमानित करता। वह ऐसा करके बहुत प्रसन्नता का …

नमक हराम | कहवातो की कहनिया | Small bedtime stories | Read More »

अढ़ाई दिन की बादशाहत | Short moral stories with proverbs |

अढ़ाई दिन की बादशाहत | कहवातो की कहनिया | Short moral stories with proverbs |     Short moral stories with proverbs:- बक्सर के मैदान में एक बार हुमायूँ और शेरशाह सूरी का घमासान युद्ध चल रहा था। युद्ध में हुमायूँ बुरी तरह हार गया और उसे शेरशाह सूरी की सेना ने तीनों से घेर …

अढ़ाई दिन की बादशाहत | Short moral stories with proverbs | Read More »

आता हो तो हाथ से न दीजिए | कहवातो की कहनिया | Short stories on proverbs |

आता हो तो हाथ से न दीजिए | कहवातो की कहनिया | Short stories on proverbs |     Short stories on proverbs:- किसी व्याध ने जंगल में एक तीतर फँसाया। तीतर ने सोचा-यह पापी मेरी जान लेकर छोड़ेगा; परंतु अक्ल लगाकर जान बचाने की कोशिश तो करनी चाहिए। उसने व्याध से पूछा, ‘‘तुम मेरा …

आता हो तो हाथ से न दीजिए | कहवातो की कहनिया | Short stories on proverbs | Read More »

अंधेर नगरी चौपट राजा टके सेर भाजी | Hindi story for class 5 with moral |

अंधेर नगरी चौपट राजा टके सेर भाजी, टके सेर खाजा | कहवातो की कहनिया | Hindi story for class 5 with moral |       Hindi story for class 5 with moral:- काशी-तीर्थयात्रा की वापसी में एक गुरु और शिष्य किसी नगरी में पहुँचे। नाम उसका अंधेर नगरी था। शिष्य बाजार में सौदा खरीदने …

अंधेर नगरी चौपट राजा टके सेर भाजी | Hindi story for class 5 with moral | Read More »

आओ मियाँजी, छप्पर उठाओ | a Small story in hindi with moral |

आओ मियाँजी, छप्पर उठाओ | कहवातो की कहनिया | a small story in hindi with moral |     a small story in hindi with moral:- एक मियाँजी यात्रा करते हुए गाँव के किसी किसान के घर रुक गए। मियाँ बातें बनाने में बढ़े-चढ़े थे, पर काम में निरे आलसी। वे किसान के दालान में …

आओ मियाँजी, छप्पर उठाओ | a Small story in hindi with moral | Read More »

पढ़ा खूब है, पर गुना नहीं | कहवातो की कहनिया | Hindi moral story with pictures |

पढ़ा खूब है, पर गुना नहीं | कहवातो की कहनिया | hindi moral story with pictures |       Hindi moral story with pictures:- एक राजा ने अपने पुत्र को ज्योतिष की विद्या सीखने के लिये एक प्रसिद्ध ज्योतिषी के यहाँ भेजा। ज्योतिषी का बेटा और राजकुमार दोनों साथ ही शिक्षा प्राप्त करने लगे। …

पढ़ा खूब है, पर गुना नहीं | कहवातो की कहनिया | Hindi moral story with pictures | Read More »

बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे? | कहवातो की कहनिया | Story moral in Hindi |

बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे? | कहवातो की कहनिया | story moral in Hindi |       Story moral in Hindi:- बचपन में बाबा एक कहावत कहते थे, “बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे?” हम ने कहा, “बाबा ! यह कौन बड़ी बात है ? बिल्ली पकड़ कर आप लाइए घंटी …

बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे? | कहवातो की कहनिया | Story moral in Hindi | Read More »