Panchatantra Stories

[Story-39] स्वजाति प्रेम | Moral Stories for Panchatantra |

[Story-39] स्वजाति प्रेम | Moral Stories for Panchatantra |     Moral Stories for Panchatantra:- एक वन में एक तपस्वी रहते थे। वे बहुत पहुंचे हुए ॠषि थे। उनका तपस्या बल बहुत ऊंचा था। रोज वह प्रातः आकर नदी में स्नान करते और नदी किनारे के एक पत्थर के ऊपर आसन जमाकर तपस्या करते थे। …

[Story-39] स्वजाति प्रेम | Moral Stories for Panchatantra | Read More »

[Story-35] सच्चा शासक | Panchatantra Story| Hindi Kids Stories |

[Story-35] सच्चा शासक | Panchatantra Story| Hindi Kids Stories |     Panchatantra Story:- कंचन वन में शेरसिंह का राज समाप्त हो चुका था पर वहां बिना राजा के स्थिति ऐसी हो गई थी जैसे जंगलराज हो जिसकी जो मर्जी वह कर रहा था। वन में अशांति, मारकाट, गंदगी, इतनी फैल गई कि वहां जानवरों …

[Story-35] सच्चा शासक | Panchatantra Story| Hindi Kids Stories | Read More »

[Story-38] सिंह और सियार | Kids Panchatantra Story | Hindi moral story |

[Story-38] सिंह और सियार | Kids Panchatantra Story | Hindi moral story |     Kids Panchatantra Story:- वर्षों पहले हिमालय की किसी कन्दरा में एक बलिष्ठ शेर रहा करता था। एक दिन वह एक भैंसे का शिकार और भक्षण कर अपनी गुफा को लौट रहा था। तभी रास्ते में उसे एक मरियल-सा सियार मिला …

[Story-38] सिंह और सियार | Kids Panchatantra Story | Hindi moral story | Read More »

[Story-37] सांड और गीदड | Panchatantra | Hindi Story with Moral |

[Story-37] सांड और गीदड | Panchatantra | Hindi Story with Moral |     Panchatantra:- एक किसान के पास एक बिगडैल सांड था। उसने कई पशु सींग मारकर घायल कर दिए। आखिर तंग आकर उसने सांड को जंगल की ओर खदेड दिया। [ Hindi Story with Moral ] सांड जिस जंगल में पहुंचा, वहां खूब …

[Story-37] सांड और गीदड | Panchatantra | Hindi Story with Moral | Read More »

[Story-36] सच्चे मित्र | Hindi Panchatantra Stories | Hindi Moral Stories |

[Story-36] सच्चे मित्र | Hindi Panchatantra Stories | Hindi Moral Stories |     Hindi Panchatantra Stories:- बहुत समय पहले की बात हैं। एक सुदंर हरे-भरे वन में चार मित्र रहते थे। उनमें से एक था चूहा, दूसरा कौआ, तीसरा हिरण और चौथा कछुआ। अलग-अलगजाति के होने के बावजूद उनमें बहुत घनिष्टता थी। चारों एक-दूसरे …

[Story-36] सच्चे मित्र | Hindi Panchatantra Stories | Hindi Moral Stories | Read More »

[Story-34] संगठन की शक्ति | Panchatantra | Short Story in Hindi

[Story-34] संगठन की शक्ति | Panchatantra | Short Story in Hindi     Panchatantra:- एक वन में बहुत बडा अजगर रहता था। वह बहुत अभिमानी और अत्यंत क्रूर था। जब वह अपने बिल से निकलता तो सब जीव उससे डरकर भाग खडे होते। उसका मुंह इतनाविकराल था कि खरगोश तक को निगल जाता था। एक …

[Story-34] संगठन की शक्ति | Panchatantra | Short Story in Hindi Read More »

[Story-32] शत्रु की सलाह | Panchatantra Story in Hindi for Kids |

[Story-32] शत्रु की सलाह | Panchatantra Story in Hindi for Kids |     Panchatantra Story in Hindi for Kids:- नदी किनारे एक विशाल पेड था। उस पेड पर बगुलों का बहुत बडा झुंड रहता था। उसी पेड के कोटर में काला नाग रहता था। जब अंडों से बच्चे निकल आते और जब वह कुछ …

[Story-32] शत्रु की सलाह | Panchatantra Story in Hindi for Kids | Read More »

[Story-31] रंगा सियार | Panchatantra kids Story | Short Stories in Hindi |

[Story-31] रंगा सियार | Panchatantra kids Story | Short Stories in Hindi |     Panchatantra Short Stories in Hindi :- एक बार की बात हैं कि एक सियार जंगल में एक पुराने पेड के नीचे खडा था। पूरा पेड हवा के तेज झोंके से गिर पडा। सियार उसकी चपेट में आ गया और बुरी …

[Story-31] रंगा सियार | Panchatantra kids Story | Short Stories in Hindi | Read More »

[Story-30] रंग में भंग | Panchatantra Story in Hindi | Moral Stories in Hindi |

[Story-30] रंग में भंग | Panchatantra Story in Hindi | Moral Stories in Hindi |     Panchatantra Story in Hindi:-  एक बार जंगल में पक्षियों की आम सभा हुई। पक्षियों के राजा गरुड थे। सभी गरुड से असंतुष्ट थे। मोर की अध्यक्षता में सभा हुई। मोर ने भाषण दिया “साथियो, गरुडजी हमारे राजा हैं …

[Story-30] रंग में भंग | Panchatantra Story in Hindi | Moral Stories in Hindi | Read More »

[Story-29] मुर्ख बातूनि कछुआ | Panchatantra Moral Stories |

[Story-29] मुर्ख बातूनि कछुआ | Panchatantra Moral Stories | Short Moral Stories |     Panchatantra Moral Stories:- एक तालाब में एक कछुआ रहता था। उसी तलाब में दो हंस तैरने के लिए उतरते थे। हंस बहुत हंसमुख और मिलनसार थे। कछुए और उनमें दोस्ती हते देर न लगी। हंसो को कछुए का धीमे-धीमे चलना …

[Story-29] मुर्ख बातूनि कछुआ | Panchatantra Moral Stories | Read More »