Month: March 2020

त्रिया-चरित्र | प्रेमचंद की कहानी | Munshi Premchand hindi short story |

त्रिया-चरित्र | प्रेमचंद की कहानी | Munshi Premchand hindi short story |     Munshi Premchand hindi short story:- “सेठ लगनदास जी के जीवन की बगिया फलहीन थी। कोई ऐसा मानवीय, आध्यात्मिक या चिकित्सात्मक प्रयत्न न था जो उन्होंने न किया हो। यों शादी में एक पत्नीव्रत के कायल थे मगर जरुरत और आग्रह से …

त्रिया-चरित्र | प्रेमचंद की कहानी | Munshi Premchand hindi short story | Read More »

तिरसूल | प्रेमचंद की कहानी | Trishul Story of Munshi Premchand |

तिरसूल | प्रेमचंद की कहानी | Trishul Story of Munshi Premchand |     Trishul Story of Munshi Premchand:- “अंधेरी रात है, मूसलाधार पानी बरस रहा है। खिड़कियों पर पानीके थप्पड़ लग रहे हैं। कमरे की रोशनी खिड़की से बाहर जाती है तो पानी की बड़ी-बड़ी बूंदें तीरों की तरह नोकदार, लम्बी, मोटी, गिरती हुई …

तिरसूल | प्रेमचंद की कहानी | Trishul Story of Munshi Premchand | Read More »

बोहनी | प्रेमचंद की कहानी | Bohani Story of Munshi Premchand |

बोहनी | प्रेमचंद की कहानी | Bohani Story of Munshi Premchand |     Bohani Story of Munshi Premchand:-“उस दिन जब मेरे मकान के सामने सड़क की दूसरी तरफ एक पान की दुकान खुली तो मैं बाग-बाग हो उठा। इधर एक फर्लांग तक पान की कोई दुकान न थी और मुझे सड़क के मोड़ तक …

बोहनी | प्रेमचंद की कहानी | Bohani Story of Munshi Premchand | Read More »

शेख मखमूर | प्रेमचंद की कहानी | Very Small Munshi Premchand Stories |

शेख मखमूर | प्रेमचंद की कहानी | Very Small Munshi Premchand Stories |     Very Small Munshi Premchand Stories:- “मुल्के जन्नतनिशॉँ के इतिहास में वह अँधेरा वक्त था जब शाह किशवर की फतहों की बाढ़ बड़े जोर-शोर के साथ उस पर आयी। सारा देश तबाह हो गया। आजादी की इमारतें ढह गयीं और जानोमाल …

शेख मखमूर | प्रेमचंद की कहानी | Very Small Munshi Premchand Stories | Read More »

स्नेह पर कर्त्तव्य की विजय | Very Short Munshi Premchand Stories |

स्नेह पर कर्त्तव्य की विजय | Very Short Munshi Premchand Stories |     Very Short Munshi Premchand Stories:- “रोगी जब तक बीमार रहता है उसे सुध नहीं रहती कि कौन मेरी औषधि करता है, कौन मुझे देखने के लिए आता है। वह अपने ही कष्ट मं इतना ग्रस्त रहता है कि किसी दूसरे के …

स्नेह पर कर्त्तव्य की विजय | Very Short Munshi Premchand Stories | Read More »

मंत्र | प्रेमचंद की कहानी | Very Small Premchand Story |

मंत्र | प्रेमचंद की कहानी | Very Small Premchand Story |     Very Small Premchand Story:- “संध्या का समय था। डाक्टर चड्ढा गोल्फ खेलने के लिए तैयार हो रहे थे। मोटर द्वार के सामने खड़ी थी कि दो कहार एक डोली लिये आते दिखायी दिये। डोली के पीछे एक बूढ़ा लाठी टेकता चला आता …

मंत्र | प्रेमचंद की कहानी | Very Small Premchand Story | Read More »

धिक्‍कार | प्रेमचंद की कहानी | Very Short Premchand Stories |

धिक्‍कार | प्रेमचंद की कहानी | Very Short Premchand Stories |     Very Short Premchand Stories:- “अनाथ और विधवा मानी के लिए जीवन में अब रोने के सिवा दूसरा अवलम्‍ब न था । वह पांच वर्ष की थी, जब पिता का देहांत हो गया। माता ने किसी तरह उसका पालन किया । सोलह वर्ष …

धिक्‍कार | प्रेमचंद की कहानी | Very Short Premchand Stories | Read More »

दिल की रानी | प्रेमचंद की कहानी | Dil ki Rani Premchand Story |

दिल की रानी | प्रेमचंद की कहानी | Dil ki Rani Premchand Story |     Dil ki Rani Premchand Story:- “जिस वीर तुर्कों के प्रखर प्रताप से ईसाई दुनिया कौप रही थी , उन्‍हीं का रक्‍त आज कुस्‍तुनतुनिया की गलियों में बह रहा है। वही कुस्‍तुनतुनिया जो सौ साल पहले तुर्को के आंतक से …

दिल की रानी | प्रेमचंद की कहानी | Dil ki Rani Premchand Story | Read More »

दुनिया का सबसे अनमोल रतन | Small Prenchand ki kahani in hindi |

दुनिया का सबसे अनमोल रतन | Small Prenchand ki kahani in hindi |     Small Prenchand ki kahani in hindi:- “दिलफिगार एक कँटीले पेड़ के नीचे दामन चाक किये बैठा हुआ खून के आँसू बहा रहा था। वह सौन्दर्य की देवी यानी मलका दिलफरेब का सच्चा और जान-देनेवाला प्रेमी था। उन प्रेमियों में वही …

दुनिया का सबसे अनमोल रतन | Small Prenchand ki kahani in hindi | Read More »

कर्तव्य और प्रेम का संघर्ष | Short Munshi Prenchand ki kahaniya in hindi |

कर्तव्य और प्रेम का संघर्ष | Short Munshi Prenchand ki kahaniya in hindi |     Short Munshi Prenchand ki kahaniya in hindi:- “जब तक विरजन ससुराल से न आयी थी तब तक उसकी दृष्टि में एक हिन्दु-पतिव्रता के कर्तव्य और आदर्श का कोई नियम स्थिर न हुआ था। घर में कभी पति-सम्बंधी चर्चा भी …

कर्तव्य और प्रेम का संघर्ष | Short Munshi Prenchand ki kahaniya in hindi | Read More »